Mohobbat Shayari, Aarzu Thi Kabhi

Mohabbat Shayari In Hindi

Mohobbat shayari, mohabbat shayari, lobe shayari, dil shayari
Mohobbat shayari

# आरजू थी कि कभी ऐसा हुआ होता
मेरी कमी ने भी आपको उदास किया होता
हम लौट आते एक लम्हें मे मगर
आपके लबों ने मेरा नाम तो लिया होता..!!
# Aarzu Thi Ki Kabhi Aisa Hua Hota
Meri Kami Ne Aapko Bhi Udaas Kiya Hota,
Hum Laut Aate Ek Lamhe Me Magar
Aapke Labo Ne Mera Naam To Liya Hota…!!!

 

# बेशक हमें तुमसे मोहब्बत थी
लेकिन इतनी ज्यादा होगी
हमनें कभी सोचा तक ना था..!!
# Beshak Hume Tumse Mohobbat Thi
Lekin Itni Jyada Hogi,
Humne Kabhi Socha Naa Tha..!!

# किसी को बदल कर चाहो
वो मोहब्बत ही क्या,
जो जैसा उसी रूप में टूट कर
चाहो वो ही मोहब्बत है..!!
# Kisi Ko Badal Kar Chaho
Wo Mohabbat Hi Kya,
Jo Jaisa Hai Usi Roop Me Toot Kar
Chaho Wo Hi Mohabbat Hai..!!

 

# तूझे पाना चाहता हूं,खोना नहीं
तेरे संग हंसना चाहता हूं,जुदा होकर रोना नहीं
मेरी मोहब्बत को बस इतना समझ सजना
तेरे संग जीना चाहता हूं, महज़ बिस्तर पर सोना नहीं..!!!
# Tujhe Pana Chahta Hu, Khona Nhi
Tere Sang Hasna Chahta Hu Rona Nhi,
Meri Mohabbat Ko Bas Itna Samajh Sajna
Tere Sang Jeena Hai, Mahez Bister Par Sona Nhi..!!!

Mohobbat Shayari In Hindi

# ऐ नादान दिल कभी रोते नहीं
कुछ अपने होकर भी पास होते नहीं,
जरा से फासलें पर ये उदासी कैसी
दिल मे बसने वाले कभी दूर होते नहीं..!!
# Ae Nadaan Dil Kabhi Rote Nhi
Kuch Apne Hokar Bhi Paas Hote Nhi
Zara Se Fashle Par Ye Udaasi Kaisi
Dil Me Basne Wale Kabhi Door Hote Nhi…!!!

 

# आज भी उसकी आखों मे राज वही हैं
चहरें और जिस्म का लिबास वही है,
कैसे कह दूं मैं उसे बेवफा
आज भी उसके देखने का अंदाज वही है..!!
# Aaj Bhi Uski Aankho Me Raaz Vahi Hai
Chahre Aur Zism Ka Libaas Vahi Hai,
Kaise Keh Du Main Use Bewafaa
Aaj Bhi Uske Dekne Ka Andaaz Vahi Hai…!!!

1 thought on “Mohobbat Shayari, Aarzu Thi Kabhi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *