Mast Shayari | Kabhi Kisi Shayar se

Mast Shayari In Hindi

# रात गहरी थी डर भी सकते थे,
हम जो कहते थे कर भी सकते थे,
तुने साथ तो छोडा़ मगर ये भी ना सोचा,
हम तो पागल थे मर भी सकते थे…!!

# Raat Gehri Thi Darr Bhi Sakte The,
Hum Jo Kehte The Kar Bhi Sakte The,
Tune Sath to Chhoda Magar Ye Bhi Na Socha,
Hum To Pagal The Mar Bhi Sakte The…!!

 

# मुमकिन ना रहा अब,
किसी पर भरोसा करना क्योंकि,
यहां भरोसा दिलाने वाले,
खुद धोखा खाये हुए हैं…!!

# Mumkin Na Rha Ab,
Kisi Par Bharosa Karna Kyoki,
Yha Bharosa Dilane Wale,
Khud Dhokha Khaye Hue Hai…!!

 

# तू हजार बार भी रुठेगी तो भी तुझें मना लूँगा,
तुझसे प्यार किया हैं कोई गुनाह तो नही,
जो तुझसे दूर होकर खुद को सजा दूँगा…!!

# Tu Hazaar Baar Bhi Ruthegi To Bhi Tujhe Mana Lunga,
Tujhse Pyar Kiya Hai Koi Gunah Yo Nhi,
Jo Tujhse Door Hokar Khud Ko Saza Dunga…!!

Mast shayari in hindi, mast mast shayari in hindi, sayri mast
Mast shayari

# कभी किसी शायर से उसकी उदासी की
वजह पूछना,
दर्द को भी इतनी खुशींं से सुनाएगा की प्यार
हो जायेगा…!!

# Kabhi Kisi Shayar Se Uski Udasi Ki Vajah Puchna,
Dard Ko Bhi Itni Khushi Se Sunayega Ki Pyar Ho Jayega…!!

 

# वहाँ तो सिर्फ उनकी पायल खनकी हैं,
तब इतना शोर शराबा है,
यहाँ तो मेरा दिल ही टूटा गया,
ताज्जुब हैं फ़िर भी कितना सन्नाटा हैं …!!

# Vaha To Sirf Unki Payal Khanki Hai,
Tab Itna Shor Sharaba Hai,
Yha To Mera Dil Hi Tut Gya,
Tazzub Hai Phir Bhi Kitna Sannata Hai…!!

 

# सबनमींं आँखों में डूब जाने को दिल चाहता है,
इश्क में तेरे बर्बाद हो जाने को दिल चाहता है,
कोई संभाले मुझे, बहके जा रहे हैं कदम मेरे,
वफ़ा में तेरी, मर जाने को दिल चाहता है…!!

# Sabnami Aankho Mein Doob Jane Ko Dil Chahta Hai,
Ishq Mein Tere Barbaad Ho Jane Ko Dil Chahta Hai,
Koi Sambhale Mujhe, Bahake Jaa Rahe Hai Kadam Mere,
Wafa Mein Teri, Mar Jane Ko Dil Chahta Hai…!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *